Jhunjhunu Update
Jhunjhunu Update - पढ़ें भारत और दुनिया के ताजा हिंदी समाचार, बॉलीवुड, मनोरंजन और खेल जगत के रोचक समाचार. ब्रेकिंग न्यूज़, वीडियो, ऑडियो और फ़ीचर ताज़ा ख़बरें. Read latest News in Hindi.

प्रधानाचार्य पद पर पदोन्नति विवाद, दो संगठनों के बीच ट्विटर वॉर चरम सीमा पर

- Advertisement -

झुंझुनूं, 8 जून।
कोविड-19 महामारी के दौरान लॉक डाउन की वजह से आम आदमी की जीवन शैली में काफी परिवर्तन हो चुके हैं। समाज के प्रत्येक वर्ग को जीवन में कई तरह के बदलाव करने पड़ रहे हैं। वहीं राज्य सरकार के सामने अपनी मांगों के पक्ष में धरने, प्रदर्शन व रैली करने वाले कर्मचारी संगठनों ने भी नए नवाचार करने शुरू कर दिए हैं। इसी में प्रदेश में इन दिनों शिक्षा विभाग के प्रधानाचार्य पद पर पदोन्नति को लेकर विवादास्पद स्थिति बनी हुई है तथा दो संगठन इस पद पर पदोन्नति के अनुपात को लेकर आमने-सामने हैं। राज्य सरकार द्वारा पदोन्नति अनुपात में परिवर्तन के संकेत मिलने पर राजस्थान शिक्षा सेवा परिषद रेसा के सदस्यों ने इसका पुरजोर विरोध भी करना शुरू कर दिया है। लॉक डाउन की वजह से धरने, प्रदर्शन, रैली या जुलूस के माध्यम से अब अपनी मांगों के समर्थन में प्रदर्शन नहीं किया जा सकता तो इन संगठनों ने राज्य सरकार तक अपनी मांग को पहुंचाने के लिए और उसके समर्थन में वाजिब तर्क देने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया है। इसी क्रम में कुछ दिनों से रेसला और रेसा दोनों संगठनों के सदस्य फेसबुक और विशेष कर ट्विटर पर काफी सक्रिय हो रहे हैं। शनिवार को रेसा का एक ट्विट अभियान ट्रेंड करते हुए राजस्थान में नंबर वन पर रहा था। इसी को देखते हुए रविवार को रेसला के सदस्यों ने भी अपने समर्थन में ट्विटर अभियान चलाया और दिनभर ट्विट करते रहें। शाम इनके जवाब में रेसा के सदस्यों ने भी पांच बजे से ट्विट करना शुरू किया और एक रोचक मुकाबला रेसा व रेसला के बीच ट्विटर वार के रूप में आरंभ हो गया। लगभग पांच घंटे चले इस रोमांचक मुकाबले में दोनों के ट्विट ट्रेंड करने लगे और एक दूसरे को पीछे छोड़ने में पूरे जोश से प्रदेश भर से मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री, टीवी चैनल्स व अन्य मीडिया ग्रुप्स को ट्विट करते रहे। मुकाबला इतना रोचक था कि लगभग पांच बजे रेसला 88 हजार ट्विट करके रेसा के 79 हजार ट्विट से बढ़त बनाए हुए था। लगभग सात बजे भी रेसला एक लाख 28 हजार ट्विट करके रेसा के एक लाख 16 हजार ट्व्टि के मुकाबले बढ़त बनाए हुए था। विशेष बात ये रही कि दोनों संगठनों ने रविवार को कुल चार लाख से अधिक ट्विट किए। जिनमें से रेसा ने शाम पांच से रात 10 बजे तक पांच घंटे में ही दो लाख से अधिक ट्विट कर दिए और भी रोचक यह है कि सोमवार को भी ट्विटर वॉर जारी रहा और दोनों संगठन फिर ट्विटर वॉर में जुटे हैं। वर्तमान में यह विवाद प्रदेश के शिक्षा विभाग में बहुत बड़ा विवाद का विषय बना हुआ है तथा वर्तमान सत्र में प्रधानाचार्य पद पर पदोन्नति के रास्ते में भी यह रुकावट आ रही है। रेसा के जिला मंत्री राजकुमार बलवदा ने बताया कि रेसा की यह मांग है कि राज्य सरकार को वर्तमान परिस्थितियों के मध्य नजर एक बार पुन: एक उच्च स्तरीय समिति का गठन करना चाहिए, जो दोनों संगठनों के तर्कों एवं तथ्यों का परीक्षण करते हुए राज्य सरकार को रिपोर्ट प्रस्तुत करें तथा राज्य सरकार उसके पश्चात कोई सर्वसम्मत निर्णय लें। जिससे दोनों संगठन जो आज आमने-सामने हैं वे संतुष्ट हो सके तथा राज्य के शिक्षा विभाग में एक आपसी सद्भावना पूर्ण माहौल का पुन: निर्माण हो सके।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.