Jhunjhunu Update
Jhunjhunu Update - पढ़ें भारत और दुनिया के ताजा हिंदी समाचार, बॉलीवुड, मनोरंजन और खेल जगत के रोचक समाचार. ब्रेकिंग न्यूज़, वीडियो, ऑडियो और फ़ीचर ताज़ा ख़बरें. Read latest News in Hindi.

राष्ट्रीय स्तर पर शिक्षा बचाओ अभियान की ऑनलाइन लॉन्चिंग

- Advertisement -

झुंझुनूं, 30 जुलाई।
नेशनल इंडिपेन्टेन्ड स्कूल्स एलायन्स (नीसा) के द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर 51 दिनों तक चलने वाले शिक्षा बचाओ अभियान की शुरूआत एक ऑनलाइन लॉन्चिंग कार्यक्रम के माध्यम से की गई। संपूर्ण राष्ट्र में ऑनलाइन शुरू हुए इस अभियान का समापन देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन 17 सितंबर 2020 को होगा। जानकारी देते हुए निसा के राजस्थान प्रांतीय प्रभारी डॉ. दिलीप मोदी ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण लंबे समय से जारी लॉकडाउन (अब 31 अगस्त तक) के कारण यह पूरी शिक्षा प्रणाली भारी संकट का सामना कर रही है। इस संकट का सामना विशेष रूप से निजी स्कूलों द्वारा किया जा रहा है। ऐसे में सरकार का ध्यान निजी स्कूलों की समस्याओं की ओर आकृष्ट करने के उद्देश्य से इस अभियान की शुरूआत की गई है।ऑनलाइन लॉन्चिंग कार्यक्रम में बोलते हुए देश के प्रसिद्ध लेखक एवं शिक्षाविद् गुरूचरण दास ने कहा कि अब समय आ गया है कि सरकार स्कूलों को फंडिंग करने की बजाय सीधे बच्चों को फंडिंग करें। इसके लिए सरकार को अति शीघ्र डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से स्कूल वाउचर सिस्टम को सारे देश में लागू करना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश भर के बच्चों को अच्छे स्कूलों में अच्छे शिक्षकों के माध्यम से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पहुंचाने का यही एक मात्र विकल्प भी है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की आपदा के वर्तमान समय में जिस तरह से हमारे शिक्षकों ने देशभर में शिक्षा को बचाने की चुनौती को स्वीकार करते हुए बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा उपलब्ध कराई है। उसकी जितनी भी तारीफ की जाए, कम होगी। उदघाटन सत्र की अध्यक्षता नीसा के राष्ट्रीय अध्यक्ष कुलभूषण शर्मा ने की। फेसबुक, यू-ट्यूब और जूम के माध्यम से लगभग 18 हजार अभिभावक, शिक्षक एवं स्कूल संचालक इस लॉन्चिंग कार्यक्रम में शामिल हुए। वेबिनार में बोलते हुए निसा के राजस्थान प्रांतीय प्रभारी डॉ. दिलीप मोदी ने कहा कि कोविड-19 के कारण अभिभावकों को गंभीर आर्थिक संकट का सामना करना पड़ा है। ऐसे में अभिभावक अपने बच्चों की फीस स्कूलों को नहीं दे पा रहे है और जिसका परिणाम यह हो रहा है कि स्कूल भी आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण अब अपने शिक्षकों को वेतन भी नहीं दे पा रहे हैं। ऐसे में इसका सबसे खराब असर देश के बच्चों की शिक्षा व्यवस्था पर पड़ रहा है। जिसको बचाने के लिए सरकार को आगे आकर बच्चों को फंडिंग करनी चाहिए। नीसा के तत्वावधान में आयोजित इस ऑनलाइन वेबिनार में पूर्वांचल स्कूल्स एसोसिएशन के अध्यक्ष दीपक मधोक, एजुकेशन वल्र्ड के संस्थापक एवं मैनेजिंग डायरेक्टर दिलीप ठकोर, इकोसोक यूएन के ग्लोबल इकोनॉमिस्ट फोरम के सीनियर वाइस प्रेसीडेन्ट एवं ग्लोबल चैम्बर ऑफ स्पोट्र्स, एजुकेशन एंड कल्चर के डायरेक्टर रिटायर्ड मेजर जनरल दिलावरसिंह के साथ ही शिक्षा जगत से जुड़ी हुई कई अन्य जानी-मानी हस्तियों ने भी सम्बोधित किया। नीसा के राष्ट्रीय अध्यक्ष कुलभूषण शर्मा ने कहा कि सरकार वसुधैव कुटुम्बकम् की नीति का पालन करते हुए देश के सभी बच्चों के साथ समानता का व्यवहार करते हुए उन्हें एकसमान और गुणात्मक शिक्षा प्रदान करने के लिए प्रति बच्चा 50 हजार रुपए डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से दें ताकि देश का हर बच्चा अपनी पसंद के स्कूल का चयन कर सके और उसे शिक्षा के अधिकार की जगह गुणात्मक शिक्षा का अधिकार मिल सके। उन्होंने यह भी कहा कि अगर सरकार डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर की व्यवस्था लागू करती है तो देश में 1.5 करोड़ शिक्षकों को भी कम से कम 25 से 30 हजार रुपए वेतन मिल पाएगा। साथ ही साथ देश में गुणात्मक शिक्षा के लिए स्कूलों में प्रतिस्पद्र्धा भी होगी और जिसका लाभ अन्तत: देश के प्रत्येक बच्चे को मिलेगा। लॉन्चिंग कार्यक्रम के अन्त में उन्होंने देश के सभी अभिभावकों एवं शिक्षकों से अपील की कि वे मिलकर देश के बच्चों को उनका गुणात्मक शिक्षा प्राप्त करने का हक दिलाने के लिए शिक्षा बचाओं अभियान का समर्थन करें और मिलकर पुरजोर तरीके से इस अभियान में भाग लें।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.