Jhunjhunu Update
Jhunjhunu Update - पढ़ें भारत और दुनिया के ताजा हिंदी समाचार, बॉलीवुड, मनोरंजन और खेल जगत के रोचक समाचार. ब्रेकिंग न्यूज़, वीडियो, ऑडियो और फ़ीचर ताज़ा ख़बरें. Read latest News in Hindi.

कलेक्टर ने आदेश दिए, सोशल डिस्टेंस और मास्क लगाने के लिए

- Advertisement -

झुंझुनूं, 21 जुलाई।
कलेक्टर यूडी खान ने 19 जुलाई की रात को एक आदेश जारी कर सभी प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों को कहा था कि कोरोना गाइडलाइन की पालना नहीं करने वालों जुर्माना और एफआईआर जैसी कार्रवाई कर सख्ती करें। लेकिन यह कागज भी हवा में ऐसा उड़ा कि आदेश के कुछ घंटों बाद ही एसएफआई के छात्रनेताओं ने कलेक्ट्रेट के बाहर ही पहुंचकर ना केवल आदेशों की धज्जियां उड़ा दी। बल्कि साबित कर दिया कि प्रशासन और पुलिस इस दिशा में कितना ढीला है। यह कोई नया मामला नहीं है। जब एसएफआई एक अनुशासनहीन संगठन के रूप में काम करते हुए यह साबित करने में लगा हो। छात्र संगठन एसएफआई की ओर से कोरोना नियमों की लगातार धज्जिया उड़ाई जा रही है। जो कल के नेता कहलाते वे लापरवाही बरतने में जरा भी संकोच नहीं कर रहे हैं। कभी जश्न मनाने में मशगूल तो कभी प्रदर्शन करने में इकट्ठा होने वाले यह कार्यकर्ता इतने बेपरवाह नजर आ रहे हैं कि मानों कोरोना कुछ है ही नहीं। साथ ही जिला प्रशासन के नियम कायदों की भी जमकर धज्जियां उडा रहे हैं। हाल ही में एक छात्र नेता के बर्थडे पार्टी में शामिल हुए सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने ना मास्क पहना था और ना ही सोशल डिस्टेंस दिखाई। जिस को लेकर एसएफआई कार्यकर्त्ताओं की यह लापरवाही सोशल मीडिया पर भी खूब वायरल हुई थी। लेकिन इन्होंने एक बार फिर कोरोना नियमों को हल्के में लिया। सोमवार को कलेक्ट्रेट के सामने प्रदर्शन करने पहुंचे यह कार्यकर्ता फिर उसी तरह सोशल डिस्टेंस को ठेंगा दिखाते हुए इकट्ठा हुए और बिना मास्क के नजर आए। कुछेक के पास मास्क था तो उन्होंने लगाना उचित नहीं समझा। आपको बता दें कि जिला प्रशासन की ओर से बिना मास्क के मिलने और कोरोना नियमों की अवेहलना करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं। लेकिन कलेक्ट्रेट के सामने एक साथ इतनी संख्या में इकट्ठे एसएफआई के कार्यकर्ता प्रशासन के नियमों को ठेंगा दिखाते हुए नजर आए। यहां तक कि इन्होंने प्रदर्शन के लिए बगैर प्रशासन की अनुमति लिए बिना कलेक्ट्रेट के सामने बिना मास्क के एक साथ झुंड में फोटो खिंचाते हुए नजर आए। जिस पर इन्हें टोकने की किसी ने जहमत नहीं उठाई।
जिम्मेदार ही इतने बड़े लापरवाह
गत दिनों एक छात्र नेता की बर्थडे पार्टी में और सोमवार को कलेक्ट्रेट के बाहर काफी संख्या में एकत्र हुए यह केवल कार्यकर्ता ही नहीं बल्कि एसएफआई के जिलाध्यक्ष, जिला उपाध्यक्ष, छात्रसंघ अध्यक्ष सहित अन्य पदाधिकारी भी शामिल हुए थे। इस पर सवाल उठता है कि खुद को संगठन का जिम्मेदार ठहराने वाले इतने लापरवाह बने हुए हैं तो फिर अन्य छात्र इनसे क्या उम्मीद कर सकते हैं।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.