Jhunjhunu Update
Raho Update Jhunjhunu Se

- Advertisement -

- Advertisement -

शराब ठेके को लेकर करेंगे आंदोलन

- Advertisement -

नवलगढ़, 9 मई। नवलगढ प्रशासन तथा आबकारी विभाग की घोर उदासीनता के चलते शराब माफियाओं के हौंसले इस कदर बढ गए कि दिन दहाड़े मार्केट में शराबी मदमस्त होकर उत्पात मचाते है तथा व्यापारियों व राहगीरों को परेशान करते है और पुलिस कहती है यह तो आबकारी विभाग का काम है हम क्या करें। घूमचक्कर स्थित रतिनाथ मार्केट में एक अप्रेल को अंग्रेजी शराब की दुकान खुली थी। इसके थोड़े दिनों बाद देशी मदिरा की दुकान भी आ गई। दुकानदारों ने विरोध जताकर एक तथा दो अप्रेल को उपखंड अधिकारी को शराब की दुकान हटाने को लेकर ज्ञापन दिया था। जिसमें दुकानदारों के अलावा संगठन व संस्थाओं के लोग भी शामिल हुए थे। उपखंड अधिकारी तथा आबकारी डीईओ झुंझुनूं ने दुकान की लोकेशन की दुबारा जांच करने का आश्वासन दिया था। एक माह बीत जाने के बाद भी प्रशासन की आंख नहीं खुली। परंतु एक बार फिर गुरूवार को व्यापारियों के धैर्य की सीमा समाप्त हो गई और प्रशासन के झूठे आश्वासनों को नकारते हुए आंदोलन करने की चेतावनी दे डाली। इससे पहले पुलिस अधिकारियों तथा एसडीएम से मौखिक भी बात की गई। मगर अपनी जिम्मेदारी से कन्नी काट गए। गुरूवार को एक बार फिर ज्ञापन दिया गया।जिसमें राजेशकुमार सोनी, घनश्याम शर्मा, बाबूलाल कटेवा, सांवरमल चौधरी, अखिल भारतीय परिषद के विशालसिंह सोलंकी, अंकुर सैनी, सायर असवाल, पुनित बील, ताराचंद असवाल, ललित कुमावत, विजय असवाल, अमित सैनी, सुरेंद्र कटेवा सहित अनेक व्यापारियों व संगठन के पदाधिकारियों ने एसडीएम मुरारीलाल शर्मा को ज्ञापन दिया तथा शीघ्र ही समाधान नहीं किया गया तो आंदोलन करने की चेतावनी दे डाली। लोगों का आक्रोश पनप गया और कहा शराब ठेके के अलावा ठेकेदारों ने शराबियों के लिए एक अन्य दुकान शराब पीने के लिए दे रखी है।जहां दिनभर शराबी उत्पात मचाते है। गाली गलौच करते है। पूरे मार्केट में बोतलों का अंबार पड़ा है। शराबियों की इस हरकत से स्थानीय दुकानदारों के सामने काफी बड़ी मुसीबत आने लगी है। जबकि प्रशासन की गाडिय़ा दिनभर इस मार्केट के सामने से होकर निकलती है।

- Advertisement -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Advertisement -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More