Jhunjhunu Update
Raho Update Jhunjhunu Se

मुखबिरी तंत्र को फिर टटोला, मिली सौ प्रतिशत सफलता

एसपी गौरव यादव की पहल, जिले के सभी टॉप टेन अपराधी गिरफ्त में

झुंझुनूं, 26  अप्रेल। पुलिस ने अपने सबसे कारगर तंत्र मुखबिरी तंत्र को आधुनिकता की दौड़ में पीछे धकेल दिया हैं। इसी पुराने मुखबिरी के हथियार के कारण झुंझुनूं पुलिस ने सौ प्रतिशत सफलता हासिल कर ली हैं। झुंझुनूं एसपी गौरव यादव युवा है, लेकिन उन्होंने नई टैक्नोलॉजी के साथ पुराने तंत्र को काम में लिया और शत प्रतिशत सफलता हासिल कर ली। झुंझुनूं पुलिस ने राजस्थान में सबसे पहले अपने टारगेट को पूरा कर लिया। झुंझुनूं जिले के दस टॉप 10 अपराधियों को सलाखों के पीछे धकेल दिया हैं। इस सफलता से पुलिस काफी उत्साहित हैं। वहीं लोकसभा चुनाव में इन अपराधियों से निष्पक्ष मतदान के लिए भी डर था। पुलिस ने इन्हें सलाखों के पीछे डालकर राहत की सांस ली है। झुंझुनूं एसपी टारगेट पूरा कर नएटॉप 10 अपराधियों की सूची भी जारी कर दी है। इनमें से भी 40 प्रतिशत टारगेट पूरा कर लिया है। पुलिस का पुराना मुखबिर तंत्र झुंझुनूं पुलिस के लिए वारदान साबित हुआ है।

जिले के दस टॉप 10 अपराधी पुलिस के लिए चुनौती बने हुए थे। पुलिस मोबाइल ट्रेस करने से लेकर इनकी लोकेशन की दूसरी जानकारी जुटाने के बावजूद पुलिस इन्हें पकड़ नहीं पा रही थी। आखिकार इन पर ईनाम घोषित करना पड़ा। इसके बाद झुंझुनूं एसपी गौरव यादव ने अपने पुराने मुखबिर तंत्र को टटोला। जिले के मुखबिरों को टॉरगेट दिया गया। इसी के सहारे उन तमाम मोस्ट वांटेड को पकड़ लिया जो पुलिस के सिर दर्द बने हुए थे। एसपी गौरव यादव बताते है कि हमने अपने मुखबिरों को वापस विश्वास में लिया हैं। सभी से बात कर रहे हैं। मुखबिरों को कहा गया है कि वे हर छोटी से छोटी बात को शेयर करें ताकि समाज के छिपे अपराधियों को पर नकेल कसी जा सके। इसमेें सफलता भी मिली है।

अपराधियों की बनाई कुंडली, फिर बनाई योजना

पुलिस महकमे से गायब होते मुखबिर तंत्र को फिर से जिंदा किया गया। एसपी गौरव यादव ने बताते है कि उन्होंने मुखबिरों से बात की। अपराधियों की कुंडली बनाकर उन्हें समझाया गया। पुलिस के पास अपराधियों के छुपे होने की सूचना आने लगी। एक के बाद एक अपराधी पुलिस पकड़ में आया गया। कुछ मामलों में पुलिस भी भेष बदल कर घूमे। हालांकि इनके पीछे भी मुखबिरों की ही सूचना काम कर रही थी। कुछ अपराधियों ने अपने भेष बदल लिए, मोबाइल नंबर बदल लिए। पुलिस के लिए परेशानी का सबब बने गए। पुलिस ने कुछ अपराधियों को तो हरियाणा से पकड़ा। कुहाड़वास का सोनू नायक पुलिस के सिर दर्द बना हुआ था। वह अपनी प्रेमिका के साथ हरियाणा में रह रहा था। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने कपड़ लिया। इसी तरह से संपत सैनी चिराना के राम दरबार आश्रम में छुपा हुआ था। मुखबिर से सूचना मिली आरोपी को आश्रम से पकड़ लिया गया।

ये दस अपराधी थे टॉप टेन में शामिल

जिन 10 टॉप टेन अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुंचाया गया है।उनमें प्रवीणकुमार शामिल था।जिस पर हत्या, अपहरण, अवैध हथियार सहित कई मामले दर्ज थे। यह हरियाणा, झुंझुनूं, गंगानगर, जयपुर सहित कई जिले में आंतक का फैलता था। दूसरे नंबर पर अमरसिंह मीणा, जो डकैती, अवैध हथियार, अपहरण जैसे कई मामले में राजस्थान के कईजिलों में वांछित था।तीसरा अशोककुमार था।जिस पर चोरी, लूट, डकैती अवैध हथियार सहित कई मामले दर्ज है।चौथे नंबर पर था विनोद उर्फ सन्नी जाट, जिस पर लूट, डकैती व अपहरण सहित कई मामले दर्ज है।इसके अलावा हंसराम भी गिरफ्तार किया है।जिस पर जिले में ही 10 से अधिक मामले दर्ज है।वहीं संदीप जाट भी हत्या के मामले में फरार था।संदीप उर्फ दीपू पर हत्या सहित कई मामले दर्ज थे।पुलिस के दबाव को देखते हुए एक वांटेड बाबूलाल उर्फ राजेंद्र ने कोर्ट में सरेंडर किया।वहीं संदीप उर्फ टीटू मारपीट, अपहरण और लूट के मामले में वाछित था। दसवें वांटेडमनोजकुमार पर भी चोरी मारपीट सहित मामले दर्ज थे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More