Jhunjhunu Update
Raho Update Jhunjhunu Se

भगवान की कथा का श्रवण आनंदस्वरूप है : मनीषनाथ महाराज

झुंझुनूं, 28  जुलाई। चंचलनाथ टीला स्थित श्री शिव मंदिर के पावन प्रांगण में एवं परम पूज्य संत ओमनाथ महाराज के पावन सानिध्य में आयोजित शिव महापुराण के तृतीय दिवस में सर्वप्रथम कथा के प्रारंभ में कथा से पूर्व मंदिर परिसर में पौधारोपण किया गया।कथा संयोजक दीपक मोदी व उमाशंकर महमिया ने बताया कि कथा में महाराज मनीषनाथ महाराज द्वारा भगवान शिव के रूद्राष्टक का सुंदर गायन किया गया। इसके बाद बताया कि भगवान की कथा आनंदस्वरूप है। इसलिए हम चाहे कितने भी समय तक ही क्यों ना कथा का श्रवण करेें किंतु हमारा मन कभी नहीं भरता है। आनंद की प्राप्ति होना बंद हो जाए तो मनुष्य सदैव आनंद की खोज में लगा रहेगा। यह कथा पूर्णरूपेण आनंदस्वरूप है। कथा में ऋषि मारकंडेय के परंपावन चरित्र के माध्यम से समस्त जनमानस को संदेश दिया कि जिस प्रकार ऋषि मारकण्डेय की संत सेवा तथा भगवत भक्ति के प्रभाव में काल पर भी विजय प्राप्त कर ली। हमें भी चाहिए कि संतों का संग उनकी सेवा तथा प्रतिदिन कुछ न कुछ समय निकाल कर के भगवान की भक्ति अवश्यक करनी चाहिए। कथा में समुंद्रमथन के रोचक प्रसंग का वर्णन किया। इसके बाद सती चरित्र का का भावुक वर्णन किया। समस्त श्रोताओं ने भाव से कथा का श्रवण किया। तृतीय दिवस की कथा को यही विराग दिया गया।  कथा के अंत में तहसीलदार कपिल भारद्वाज, अजमेर डिस्कॉम जेईएन योगेश मित्तल, आयुक्त रामनिवास कुमावत, डॉ. दयाशंकर बावलिया, कमरूदीन दरगाह के गद्दीनसीन एजाज नबी, निरंजननाथ बोटिया धाम के महंत, जयपुर के महावीरनाथ महाराज, बिहारी मंदिर के महंत प्रेमदास, विचारनाथ महाराज चंचलनाथ टीला, परेश्वरदास महाराज, श्यामदास महाराज, ख्वाजा आरिफ, रामगोपाल महमिया, संजय पारीक, महबूब खां नूआं,  शिवचरण पुरोहित, विपुल छक्कड़, शिवकुमार जांगिड़, राकेश बुडानिया, गोविंद पुजारी, प्रफुल्ल सहल, विकास शर्मा, अमित इंदोरिया, सपना राणासरिया, डॉ. भावना शर्मा, नारायण कुमावत चुरू, मदन शर्मा मझाऊ, एनएल पारीक आदि गणमान्य नागरिकों का व्यासपीठ से सम्मान किया गया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More