Jhunjhunu Update
Raho Update Jhunjhunu Se

बेटियों का कोख में ही दम घोंटने वाले रविसिंह को झुंझुनूं पुलिस ने किया प्रदेश का दूसरा हिस्ट्रीशीटर घोषित

झुंझुनूं, 13 अप्रेल। गर्भवती महिलाओं की लिंग जांच कर दस हजार से अधिक बेटियों का कोख में कत्ल करने वाला  व चार बार लिंग जांच के आरोप में पकड़ा गया आरोपी झुंझुनूं जिले के सिंघाना निवासी रविसिंह को पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत प्रदेश का दूसरा हिस्ट्रीशीटर घोषित कर दिया है। पीसीपीएनडीटी सैल के राज्य समुचित प्राधिकारी डॉ. समित शर्मा तथा जिला पीसीपीएनडीटी सैल के जिला समुचित प्राधिकारी व जिला कलेक्टर रवि जैन की अभिशंषा पर एसपी गौरव यादव के निर्देश पर सिंघाना थाने का हिस्ट्रीशीटर रविसिंह को घोषित किया गया है। एसपी यादव ने बताया कि  सिंघाना निवासी रविसिंह को पीसीपीएनडीटी एक्ट का लगातार चार बार उल्लंघन करते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया है। पीसीपीएनडीटी ब्यूरो ऑफ इंवेस्टिगेशन जयपुर के अनुसार झुंझुनूं जिले का सिंघाना निवासी रविसिंह 2004 से लिंग जांच व चयन करने का कार्य अवैध सोनोग्राफी मशीन द्वारा करता रहा है। जिसे पीसीपीएनडीटी सैल जयपुर व झुंझुनूं द्वारा चार बार जिले में ही अलग-अलग जगह व अलग-अलग साथियों के साथ लिंग जांच करते हुए अवैध सोनोग्राफी मशीन सहित पकड़ा है। आरोपी रविसिंह व उसके साथी राजस्थान उच्च न्यायालय से जमानत पर छूटने के बाद फिर से अवैध सोनोग्राफी मशीन खरीद कर लिंग जांच करने का काम शुरू कर देता है। हिस्ट्रीशीटर रविसिंह द्वारा खेतड़ी, बुहाना, सूरजगढ़ व सिंघाना सहित अन्य जिलों व राज्यों में भी करीब एक दर्जन से अधिक लिंग जांच करने वाले चेले चपाटी व शिष्य तैयार कर दिए है।जो स्वयं की अवैध सोनोग्राफी मशीन खरीद कर अलग-अलग क्षेत्रों में अवैध रूप से लिंग जांच करने का कार्य करते रहे है। हिस्ट्रीशीटर रविसिंह व उसके सहयोगी अवैध लिंग जांच करने का प्रत्येक गर्भवती महिला से 30 से 50 हजार रुपए तक की राशि लेकर अवैध लिंग जांच कर गर्भपात भी करवा देते है। गर्भपात की राशि 10 से 30 हजार की राशि अलग से वसूल की जाती है।

हिस्ट्रीशीटर रविसिंह के सहयोगी अवधेश पांडे पर भी अभी तक चार केस पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत दर्ज हो चूके है। अवधेश पांडे भी हिस्ट्रीशीटर रविसिंह के सहयोगी महेंद्र चौधरी के साथ गत दिनों खेतड़ी में लिंग जांच करते हुए पाया गया था। लेकिन अवैध सोनोग्राफी मशीन छोडक़र भागने में सफल हो गए था।

प्रदेश का दूसरा हिस्ट्रीशीटर रविसिंह

जोधपुर जिले का निवासी व बालेसर का पूर्व बीसीएमओ डॉ. इम्तियाज प्रदेश का पहला हिस्ट्रीशीटर गत वर्ष घोषित किया गया है। डॉ. इम्तियाज भी वर्ष 2016  से 2018  तक चार बार लिंग जांच व चयन करते हुए अपने सहयोगियों के साथ नवीनतम तकनीकी की अवैध सोनोग्राफी मशीनों के साथ पकड़ा जा चुका है। डॉ. इम्तियाज का कहना है कि लिंग जांच करना उसके नशे की लत की तरह लग गया है। कमोबेश यही स्थिति प्रदेश के दूसरे हिस्ट्रीशीटर झुंझुनूं जिले के सिंघाना निवासी रविसिंह की है। रविसिंह भी लिंग जांच के आरोप में पकड़े जाने के बाद जेल से छूटते ही नई अवैध सोनोग्राफी मशीन खरीद कर फिर से लिंग जांच का काम प्रारंभ कर देता है।

चार बार गिरफ्तार हो चुका है रविसिंह

रवि सिंह को पहली बार 23 अक्टूबर 2015 में लिंग जांच के आरोप में जिले के ही खेतड़ी स्थित श्री ओम डायग्नोस्टिक सेंटर पर पकड़ा गया था। इस कार्रवाई में रविसिंह का साथी अवधेश पांडे भी शामिल था। दूसरी बार 19 अप्रेल 2016  में झुंझुनूं जिले के बिसाऊ कस्बे में रविसिंह को अवैध लिंग जांच की कार्रवाई में पकड़ा गया था। जिसमें रविसिंह के साथ एलएचवी भानूमती, एएनएम सुनिता व गंगा के साथ वाहन चालक पवनकुमार तथा मुख्य सहयोगी की भूमिका में सुमेर व राजकुमार भी शामिल थे। जिन्हें भी पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत आरोपी बनाया गया था। तीसरी बार 11 जून 2017 को खेतड़ी के बबाई कस्बे में रविसिंह व मुख्य सहयोगी सुमेरसिंह, राजेंद्रसिंह व संदीपकुमार को अवैध सोनोग्राफी मशीन से लिंग जांच के आरोप में गिरफ्तार किया गया था व अवैध पोर्टेबल सोनोग्राफी मशीन को जब्त किया गया था। चौथी बार 14 अगस्त 2018  को झुंझुनूं के सोलाना गांव में रविसिंह, सुनिलकुमार व फुलपति को लिंग जांच के आरोप में पकड़ा गया था।

इनके कारण बिगड़ा लिंगानुपात

जीवित शिशु जन्म दर के आंकड़ों के अनुसार सिंघाना, बुहाना, सूरजगढ़ व खेतड़ी क्षेत्र का बालिका लिंगानुपात जिले में सबसे कम है। हिस्ट्रीशीटर रविसिंह व उसके सहयोगियों की पहुंच जिन गांव व कस्बों में है वहां पर बालिकाओं की संख्या नाम मात्र की है।

लिंग जांच करने के लिए आदतन मजबूर

हिस्ट्रीशीटर रविसिंह व उसके  लिंग जांच में सहयोगी रहे आरोपी अवैध सोनोग्राफी मशीनों से लिंग जांच करने के आदतन अपराधी हो गए है। जेल से जमानत पर छुटने पर पैसे के लिए व अपनी आदतन मजबूरी के लिए अवैध सोनोग्राफी मशीन खरीदकर लिंग जांच करने का काम फिर से प्रारंभ कर देते है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More