Jhunjhunu Update
Raho Update Jhunjhunu Se

जैव विविधता संरक्षण समय की जरूरत :हुड्डा

झुंझुनूं, 22 मई। राजस्थान राज्य भारत स्काउट गाइड जिला मुख्यालय झुंझुनूं के तत्वावधान में जेके मोदी राजकीय बालिका उमावि में आयोजित ग्रीष्मकालीन अभिरूचि कला कौशल प्रशिक्षण शिविर में विश्व जैव विविधता दिवस का आयोजन स्काउट गाइड व वन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में उप वन संरक्षक राजेंद्रकुमार हुड्डा के मुख्य आतिथ्य एवं मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी अमरसिंह पचार की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। इस प्रकार संपूर्ण जिले में रेंज स्तर खेतड़ी, उदयपुरवाटी, चिड़ावा, नवलगढ़ में भी जैव विविधता दिवस समारोह धूमधाम से मनाया गया। सीओ स्काउट महेश कालावत ने बताया कि अतिथियों के आगमन पर स्काउट परंपरा के अनुसार स्कार्फ द्वारा स्वागत किया गया। इस दौरान उप वन संरक्षक राजेंद्रकुमार हुड्डा ने जैव विविधता संरक्षण को वर्तमान समय की महत्ती जरूरत बताते हुए कहा कि सभी को इस ओर विशेष ध्यान देते हुए अपना योगदान देना चाहिए। हुड्डा ने कहा कि आज पशु-पक्षियों, पेड़ पौधों की प्रजातियों के संरक्षण के संकल्प का दिन है। उन्होंने बताया कि विश्व में तेजी से हो रहे औद्योगिकरण के कारण जैव विविधता प्रभावित हो रही है। फलस्वरूप कई प्रजातियां विलुप्ति के कगार पर है। इसलिए हम सब का नैतिक दायित्व है कि जैव विविधता संरक्षण में हम अपना-अपना योगदान दें। जैव विविधता दिवस पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए सीडीईओ अमरसिंह पचार ने जैव विविधता संबंधित सहयोग के लिए जिले के स्कूलों की ओर से पूर्ण सहयोग का वायदा करते हुए कहा कि वर्तमान परिपेक्ष्य में जैव विविधता को बचाएं रखना बहुत जरूरी है। स्काउट गाइड व वन विभाग द्वारा लगाए गए पौधों की प्रशंसा करते हुए कहा कि परिंडे लगाना, पौधे लगाना यह सब पारिस्थितिकी तंत्र को संतुलित करने के लिए बहुत ही जरूरी है। इसलिए पारिस्थिति की को बचाए रखने के लिए प्रत्येक नागरिक एवं स्कूली छात्र-छात्राओं का सहयोग लिया जाएगा।इस दौरान एडीईओ माध्यमिक शिक्षा कमलेश तेतरवाल ने कहा कि यहां से जैव विविधता संरक्षण का जो संदेश पूरे जिले में दिया जा रहा है।अपने आप में अनूठा है। यहां पर अभिरूचि शिविर में सीखा गया कौशल एवं जैव विविधता संरक्षण के लिए किया गया कार्य हमेशा याद रहेगा। इस अवसर पर सहायक वन संरक्षक बीएल नेहरा ने संबोधित करते हुए कहा कि जीव जंतुओं की सुरक्षा जैव विविधता अधिनियम 2002 बनाया गया है। जो कि भारत में जैव विविधता के संरक्षण के लिए संसद द्वारा पारित एक संघीय कानून है। नेहरा ने बताया कि जो जीव जंतु, वनस्पति विलुप्ति के कगार पर है उनका संरक्षण किया जाना बहुत ही आवश्यक है। उन्होंने कहा कि प्रकृति में विभिन्न प्रकार के जीवों, वनस्पति की कमी आने लगी है। इनका संरक्षण एवं संवद्र्धन करें।ब्राजील का उदाहरण देते हुए बताया कि वहां पर वनोन्मूलन के कारण जैव विविधता का भारी नुकसान हुआ। सभी स्कूलों में जैव विविधता पंजीका संधारित करने का शिक्षा विभाग से अनुरोध किया।

पौधे व परिंडे लगाकर किया शुभारंभ

सीओ स्काउट महेश कालावत ने बताया कि उप वन संरक्षक राजेंद्रकुमार हुड्डा, सीडीईओ अमरसिंह पचार, एसीएफ बीएल नेहरा, उप निदेशक महिला बाल विकास विभाग विप्लव न्यौला, एडीइओ कमलेश तेतरवाल, सीओ स्काउट महेश कालावत, नगर परिषद आयुक्त विनयपालसिंह, प्रधानाचार्या सुनिता कृष्णियां, क्षेत्रीय वन अधिकारी (वन सुरक्षा) मामचंद ढाका, क्षेत्रीय वन अधिकारी रणजीतसिंह खिचड़ एक-एक पौधा लगाकर जैव विविधता संरक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस दौरान पक्षियों के लिए परिंडे भी बांधे गए तथा इनके संधारण की जिम्मेदारी स्कूल प्रशासन एवं स्काउट गाइड संगठन ने ली। इस दौरान 11 पौधे लगाकर जिले में 10 लाख पौधे लगाने की नींव रखी। उप वन संरक्षक राजेंद्रकुमार हुड्डा ने बताया कि जिलेभर में वन विभाग, जिला प्रशासन, शिक्षा विभाग, जन सामान्य, स्काउट गाइड, गैर सरकारी संगठनों, पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्य करने वाली एजेंसियों, जनप्रतिनिधियों एवं पर्यावरण प्रेमियों के सहयोग से 10 लाख पौधारोपण किया जाएगा।इसके लिए अभी से कवायद शुरू कर दी गई है।

पुरस्कार पाकर खिले चेहरे

सीओ स्काउट कालावत ने बताया कि इस अवसर पर निबंध, भाषण एवं पोस्टर प्रतियोगिता के विजेताओं को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया। सम्मान पत्र पाकर छात्र-छात्राओं के चेहरे खुशी से झूम उठे।

सांस्कृतिक प्रस्तुतियों ने बांधा समां

इस अवसर पर ग्रीष्मकालीन कला कौशल अभिरूचि शिविर के शिविरार्थियों द्वारा स्वागत नृत्य, हेडा की लाच्छा गुजरी, छम-छम…, बम बम भोले जैसे गीतों पर मनमोहक नृत्य करते हुए सभी को झूमने पर मजबूर किया तो रेंजर निशा को ओर रंग दे…. गाने पर नृत्य करके सबको आल्हादित किया।

ये रहे मौजूद

समारोह में उप वन संरक्षक राजेंद्रकुमार हुड्डा, सहायक वन संरक्षक बीएल नेहरा, सीडीईओ अमरसिंह पचार, उप निदेशक महिला एवं बाल विकास विप्लव न्यौला, एडीईओ कमलेश तेतरवाल, नगर परिषद कमिश्नर विनयपाल सिंह, सीओ स्काउट महेश कालावत, प्रधानाचार्या सुनिता कृष्णियां, क्षेत्रीय वन अधिकारी (वन सुरक्षा) मामचंद ढाका, क्षेत्रीय वन अधिकारी रणजीत खींचड़, वनपाल अमितकुमार, सहायक वनपाल सुल्तानसिंह, महेशकुमार, वनरक्षक अमरसिंह, वन मित्र अजयकुमार, कैटलगार्ड उम्मेदसिंह, अभिरूचि शिविर संचालक दल के ताराचंद यादव, जसवंतसिंह मीणा, बनारसी पूनियां, तराना, प्रतापसिंह, पायल गुप्ता, राजेश्वरी राठौड़ तथा विद्यालय के धर्मेंद्र पूनियां, सुनितादेवी, कमला, सरोज रीना, रोवर स्काउट दिनेशकुमार, इस्लाम, रेंजर निशा चौधरी, स्काउट विकास गुर्जर सहित सैंकड़ों स्काउट गाइड एवं अभिरूचि शिविर में सहयोगी उपस्थित रहे। इस दौरान उप वन संरक्षक राजेंद्रकुमार हुड्डा ने वन एवं वन्यजीवों के संरक्षण के लिए वानिकी प्रतिज्ञा दिलाई। कार्यक्रम का संचालन स्काउट प्रभारी विकास गुर्जर ने किया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More