Jhunjhunu Update
Raho Update Jhunjhunu Se

जिन विषयों को लेकर छात्राओं की रहती हैं ज्यादा डिमांड

वो महज जनप्रतिनिधियों व आयुक्तालय के आश्वासन में अटके

झुंझुनूं, 14 जून। शिक्षा का क्षेत्र हो या फिर चिकित्सा सहित अन्य क्षेत्र हमारे झुंझुनूं की बेटियां प्रदेश भर में भले ही अपनी उपलब्धियों का डंका बजा रही हैं। लेकिन हमारे जनप्रतिनिधियों की उदासीनता कहें या फिर उच्च शिक्षा विभाग की लचर नीतियां।क्योंकि जिलेभर में एक मात्र सरकारी महिला कॉलेज होने के बावजूद आरक्षित सीटों के मुकाबले प्रवेश हेतु लगभग आधे ही ऑनलाइन आवेदन आए हैं। जिसका मुख्य कारण हैं कि महिला कॉलेज में छात्राओं की रूचिकर विषय नहीं होना। जी हां, हम बात कर रहे हैं शहर के सेठ नेतराम मघराज राजकीय पीजी महाविद्यालय की। महाविद्यालय में ज्योग्राफी, इकोनोमिक्स और इंग्लिश विषय नहीं होने पर प्रवेश के लिए छात्राएं ज्यादा दिलचस्प नहीं दिख रही हैं। जिससे महाविद्यालय में साल दर साल प्रवेशित आकड़ा कम होता जा रहा है। कॉलेज आंकड़े की माने तो कला संकाय की 500 सीटों के लिए अब तक महज 178  आवेदन आए हैं। जबकि नकदीकी मोरारका कॉलेज में लडक़ों की बजाए लड़कियों की संख्या  बढ़ रही है। कॉलेज प्रशासन के साथ छात्रा नेताओं ने भी कई बार इस समस्या को लेकर जनप्रतिनिधियों और आयुक्तालय को अवगत करवा दिया है। लेकिन बावजूद इसके आश्वासन के अलावा कुछ नहीं नजर आता।

जनप्रतिनिधियों व आयुक्तालय को कई बार करवा चुके हैं अवगत

कॉलेज कार्यवाहक प्राचार्य डॉ.डीपी मीणा ने बताया कि जब से कॉलेज शुरू हुई हैं तब से ज्योग्राफी, इकोनोमिक्स एवं इग्लिश विषयों की कमी खल रही हैं। इसके लिए छात्राएं रूचिकर के साथ प्रेक्टिकल विषय को अपनी उच्च शिक्षा में शामिल करने के लिए नजदीकी राजकीय मोरारका महाविद्यालय या फिर अन्य निजी कॉलेजों में अपना दाखिला करवा रही हैं। जिससे उनको प्रैक्टिकल के तीन अंकों का बोनस भी मिलता हैं। प्राचार्य ने बताया कि कॉलेज में ज्योग्राफी, इकोनिमिक्स एवं इंग्लिश विषय शुरू करवाने के लिए कॉलेज प्रशासन की ओर से कई बार जनप्रतिनिधियों और आयुक्तालय को लैटर लिखा जा चुका है। लेकिन महज आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिलता है।

आरक्षित सीटें 688, अंतिम दिन से पूर्व आवेदन आए 338

एनएमटी कॉलेज के नोडल अधिकारी डॉ. प्रीतमसिंह ने बताया कि प्रथम वर्ष में प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन की शनिवार को अंतिम तिथि होने के बावजूद महाविद्यालय में कुल आरक्षित सीटें 6 8 8  (25 फीसदी बढ़ाने पर)  के लिए शुक्रवार तक केवल 338  आवेदन आए हैं। इसी प्रकार सन 2018 -19 में अंतिम तिथि से एक पूर्व कुल 26 0, सन 2017-18  में 540 ऑनलाइन आवेदन किए गए थे। डॉ. सिह ने बताया कि चार सालों में अब तक कला संकाय की पूर्ण सीटें नहीं भरी गई हैं।

यह सीटें है दोनों कॉलेजों में

मोरारका कॉलेज

कला संकाय-6 00

वाणिज्य संकाय-300

विज्ञान संकाय (बायो) -175

विज्ञान संकाय (मैथ) -175

कुल सीटें-950

एनएमटी कॉलेज

कला संकाय-500

वाणिज्य संकाय-100

विज्ञान संकाय (बायो) -6 3

विज्ञान संकाय (मैथ) -25

कुल सीटें-6 8 8

आज है अंतिम तिथि

स्नातक पार्ट द्वितीय एवं तृतीय के सामान्य वर्ग के विद्यार्थी आय प्रमाण पत्र तथा ओबीसी या एमबीसी के विद्यार्थियों को नॉन क्रीमिलेयर का नवीन प्रमाण पत्र 15 जून तक महाविद्यालय में जमा करवाना होगा। अन्यथा उन्हें सामान्य वर्ग के आयकरदाता मानकर सामान्य वर्ग की फीस जमा करवानी होगी। मोरारका कॉलेज प्राचार्या डॉ. नीलम भार्गव ने बताया कि स्नातकोत्तर उत्तराद्र्ध के नियमित विद्यार्थियों के लिए भी अपने आवश्यक प्रमाण पत्र महाविद्यालय में जमा करवाने की अंतिम तिथि 20 जून है। प्राचार्या डॉ. भार्गव ने बताया कि स्नातक पार्ट द्वितीय, तृतीय मित्र एवं स्नातकोत्तर उत्तराद्र्ध के विद्यार्थियों को भी अपनी फीस 26  जून तक ईमित्र पर आवश्यक रूप से जमा करवानी होगी। इधर स्नातक पार्ट प्रथम के विद्यार्थियों के लिए ऑनलाईन आवेदन भरवाने की अंतिम तिथि 15 जून है। आवेदन पत्र भरने के लिए अंकतालिका व टीसी साथ लगाने की आवश्यकता नहीं है।

‘‘कॉलेज में ज्योग्राफी, इकोनोमिक्स एवं इंग्लिश लिट्रेचर विषय का अभाव बना हुआ है। जिससे आए साल छात्राओं की संख्या में कमी आ रही है। इसको लेकर कई बार जनप्रतिनिधियों व कॉलेज आयुक्तालय को अवगत करवाया जा चुका है।

– डॉ. डीपी मीणा, कार्यवाहक प्राचार्य, एनएमटी कॉलेज, झुंझुनूं

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More