Jhunjhunu Update
Raho Update Jhunjhunu Se

जल शक्ति अभियान से होंगे जल संरक्षण की दिशा में अत्यंत महत्वपूर्ण कार्य : वर्धन

झुंझुनूं, 8  जुलाई। भारत सरकार के भारी उद्योग मंत्रालय के संयुक्त सचिव व जल शक्ति अभियान के जिले के केंद्रीय नोडल अधिकारी अमित वर्धन ने कहा कि पूरे देश में क्रियान्वित हो रहे जल शक्ति अभियान से जल संरक्षण की दिशा में अत्यंत महत्वपूर्ण कार्य होंगे। इससे भूजल स्तर बढ़ सकेगा तथा पानी की कमी की विकट समस्या का समाधान हो सकेगा। उन्होंने कहा कि अभियान के संबंध में विभिन्न विभाग पूर्ण समन्वय के साथ कार्य करें तथा अभियान में आमजन को सक्रिय योगदान देने के लिए प्रेरित-प्रोत्साहित किया जाए। वर्धन सोमवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जल शक्ति अभियान के तहत आयोजित तैयारी बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि इस अभियान का प्रथम चरण एक जुलाई से आरंभ हो गया है व 15 सितंबर तक जारी रहेगा। भारत सरकार ने 36  राज्यों व संघ क्षेत्रों के 1593 विकास खंडों में राज्य सरकारों व जिला प्रशासन के सहयोग से जल शक्ति अभियान आरंभ करने का निर्णय लिया है। अभियान के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए आठमुख्य बिंदुओं की पहचान की गई है। इनमें जल संरक्षण एवं वर्षा जल संचयन, परंपरागत एवं अन्य जलाशयों का जीर्णोद्धार, बोरवेल रिचार्ज स्ट्रक्चर्स का रियूज, जलग्रहण क्षेत्र विकास व सघन पौधारोपण किया जाना शामिल है। इसके साथ ही ब्लॉक एवं जिला जल संरक्षण योजना का निर्माण होगा। जिसे जिला सिंचाई योजना के साथ समन्वित किया जाएगा। सिंचाई में निपुण जल उपयोग एवं जल उपलब्धता के अनुसार उपयुक्त फसल के चयन को प्रोत्साहित किया जाएगा तथा कृषि एवं उद्यानिकी उद्देश्यों के लिए शहरी अपशिष्ट जल का पुनर्उपयोग सुनिश्चित किया जाएगा। वर्धन ने कहा कि कृषकों को समझाया जाए कि वे कम पानी में उगने वाली फसलों को उगाएं, साथ ही ड्रिप इरिगेशन को अधिकाधिक बढ़ावा दिया जाए। उन्होंने कहा कि जल शक्ति अभियान के तहत किए जाने वाले कार्यों के पहले व बाद के फोटोग्राफ लिए जाएं व जियो टैगिंग करवाई जाए। सरकारी भवनों में रैन वॉटर हारवेस्टिंग सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि जिले में पिछले वर्ष एक जुलाई से जल संरक्षण की दिशा में जो कार्य किए गए हैं।उनसे तिगुने कार्य किए जाएं। उन्होंने बताया कि इस संबंध में प्रत्येक 15 दिन में दिए गए लक्ष्य व उपलब्धि की समीक्षा की जाएगी। जिला कलेक्टर रवि जैन ने कहा कि जिले में जल संरक्षण के लिए सजगता से प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि जिले में सघन पौधारोपण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एमजेएसए के तहत हुए वर्षा जल संरक्षण कार्य के अच्छे परिणाम आए हैं। उन्होंने पंचफल प्रोजेक्ट की जानकारी देते हुए बताया कि इसके माध्यम से चारागाह विकास होगा। मिट्टी का कटाव रूकेगा, उगने वाले फल मिड डे मील में काम आ सकेंगे, हरियाली बढ़ेगी। उन्होंने आश्वस्त किया कि जल शक्ति अभियान के तहत जिले में पूर्ण समन्वय के साथ कार्य किया जाएगा। उन्होंने बताया कि अभियान में एनसीसी, स्काउट-गाइड, स्वयंसेवी संगठनों का भी पूर्ण सहयोग लिया जाएगा। जिला परिषद सीईओ राजपालसिंह ने बताया कि अभियान के तहत केंद्र सरकार की ओर से जिले के लिए पर्यवेक्षक दल नियुक्त किया गया है। इसके तहत जिले के आठ ब्लॉक्स का दो दल निरीक्षण करेंगे। इनमें शिवनाथ मीना, अमित रॉय, रामनाथ मीना, समीर कुमार झा शामिल हैं। इस दौरान जिला प्रमुख सुमन रायला, एडीएम राजेंद्र अग्रवाल, एसीईओ प्रतिष्ठा पिलानिया, डालमिया सेवा संस्थान चिड़ावा के भूपेंद्र पालीवाल सहित उपखंड अधिकारी व संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More