Jhunjhunu Update
Jhunjhunu Update - पढ़ें भारत और दुनिया के ताजा हिंदी समाचार, बॉलीवुड, मनोरंजन और खेल जगत के रोचक समाचार. ब्रेकिंग न्यूज़, वीडियो, ऑडियो और फ़ीचर ताज़ा ख़बरें. Read latest News in Hindi.

आंगनबाड़ी केंद्रों पर स्थापित होंगे न्यूट्री गार्डन

- Advertisement -

झुंझुनूं, 30 जुलाई।
आंगनबाड़ी केंद्रों पर आने वाले बच्चों को अब पोषाहार में फल और पौष्टिक सब्जियां मिलेगी। यही नहीं यहां पर हर गुरूवार को आने वाली गर्भवती महिलाओं को भी ये फल और पौष्टिक सब्जियां बतौर उपहार दी जाएगी। इसके लिए झुंझुनूं के 378 आंगनबाड़ी केंद्रों पर न्यूट्री गार्डन लगाने का काम शुरू हो गया है। इन 378 आंगनबाड़ी केंद्रों में से उदावास स्थित केंद्र पूरे राजस्थान के लिए मॉडल बनें, इस दिशा में इसका काम गुरूवार से शुरू कर दिया गया है।
महिला एवं बाल विकास विभाग के उप निदेशक विप्लव न्यौला ने बताया कि विभाग के शासन सचिव केके पाठक के निर्देश पर राष्ट्रीय पोषण अभियान के तहत इस बार 27.85 लाख रुपए की राशि मिली है। जिसे पूर्णतया न्यूट्री गार्डन में खर्च किया जा रहा है। जिले के 378 आंगनबाड़ी केंद्रों को चिह्नित किया गया है। सभी को करीब 10—10 हजार रुपए आवंटित किए गए है। ताकि वे केंद्रों में न्यूट्री गार्डन विकसित कर सके। इस गार्डन में फलदार और सब्जियों के पौधे लगाए जाएंगे। जो पौष्टिक होंगे। यहीं पर लगने वाले फल और सब्जी आंगनबाड़ी केंद्रों के बच्चों को पोषाहार में दिए जाएंगे और गर्भवती महिलाओं को गिफ्त के तौर पर दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि झुंझुनूं का उदावास केंद्र में स्थापित न्यूट्री गार्डन पूरे प्रदेश के लिए मॉडल बनें। इस दिशा में काम शुरू कर दिया गया है। यहां पर करीब 2000 स्कवायर फिट में गार्डन तैयार किया जा रहा है। सीईओ रामनिवास जाट ने बताया कि इस गार्डन की शुरूआत झुंझुनूं में उदावास से की गई है। वहीं इसमें ना केवल महिला एवं बाल विकास विभाग, बल्कि पंचायतीराज के अधिकारियों और कर्मचारियों को भी सहयोग के लिए लगाया गया है। ताकि उदावास के अलावा हर केंद्र में लगा गार्डन एक मिसाल बनें। साथ ही तय किया गया है कि इसी मानसून सीजन में स भी जगहों पर गार्डन लगाकर उन्हें विकसित किया जा सके।
आपको बता दें कि उदावास की 2000 स्कवायर मीटर जमीन में अमरूण, बिल, किन्नू, करौंदा, सेंजना, अंजीर, आंवला के अलावा मिर्च, टमाटर, धनिया, गाजर, मूली, नींबू सहित अन्य पौष्टिक फल और सब्जियां लगाई जा रही है। उदावास के जिस केंद्र का चयन मॉडल के रूप में किया गया है। वहां पर ना केवल वाटिका के चारों तरफ चारदिवारी है। बल्कि पानी के लिए टांके का निर्माण और बिजली कनेक्शन भी है। आज से शुरू हुए गार्डन के काम से पहले यहां पर दो दिनों तक जमीन को समतल करने का काम भी किया गया। वहीं वर्तमान समय को देखते हुए सभी केंद्रों पर तुलसी, नीम, गिलोय और एलोवेरा आदि औषधिपूर्ण पौधे भी लगाए जाएंगे।
जिले की 378 आंगनवाड़ी केंद्रों पर डवलप होंगी पोषण वाटिका
इस मौके पर झुंझुनूं बीडीओ गोपीराम भाम्बू, अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी अनीस, सूचना एवं जनसम्पर्क अधिकारी बाबूलाल रैगर, सीडीपीओ ज्योति रेपस्वाल मौजूद थे।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.