आसान नहीं है मंडावा की टिकट को फाइनल करना!

जैसा इशारा राठौड़ ने किया, वैसा ही जवाब कार्यकर्ताओं ने दे दिया राठौड़ ने कहा-झुंझुनूं विधानसभा के उम्मीदवार जैसी मत करना, कि चुनावों में अकेला ही घूमे कार्यकर्ताओं ने भी कहा-बूथ अध्यक्ष को टिकट दे देना, लेकिन बाहरी प्रत्याशी नहीं चलेगा

आसान नहीं है मंडावा की टिकट को फाइनल करना!
आसान नहीं है मंडावा की टिकट को फाइनल करना!
Loading...
Loading...

 

झुंझुनूं। झुंझुनूं के मंडावा में उप चुनाव की तारीख का ऐलान होने के साथ राजनैतिक चहलकदमी अब दौड़ में बदल गई है। रविवार को इसी क्रम में झुंझुनूं के मंडावा में भाजपा की बैठक आयोजित की गई। जिसे उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ समेत अन्य भाजपा पदाधिकारियों ने संबोधित किया। क्योंकि कल से नामांकन दाखिल करने का दौर शुरू हो जाएगा और अब नामांकन दाखिल करने के लिए एक सप्ताह का ही समय बचा है। ऐसे में दोनों ही प्रमुख पार्टियां जल्द ही अपने उम्मीदवार घोषित करना चाहती है। आज इसी क्रम में भाजपा कार्यकर्ताओं की टोह लेने तथा चुनावी अभियान की क्रियान्विति के लिए राठौड़ मंडावा आए। उन्होंने पहले तो सभी कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित किया। इसके बाद उन्होंने भाजपा पदाधिकारियों तथा टिकट चाहने वाले नेताओं से अलग-अलग कमरों में अकेले बातचीत की। सूत्रों की मानें तो इन दोनों ही बैठकों में राजेंद्र राठौड़ को कार्यकर्ताओं की खरी खरी सुनने को मिली। पदाधिकारियों की बैठक में राजेंद्र राठौड़ ने झुंझुनूं विधानसभा का उदाहरण दिया और कहा कि ऐसा ना हो कि झुंझुनूं विधानसभा के उम्मीदवार की तरह मंडावा का उम्मीदवार भी प्रचार में अकेला ही घूमता फिरे। जिस पर पदाधिकारियों ने तपाक से जवाब दिया कि झुंझुनूं जैसे तरीके से टिकट वितरण भी नहीं होना चाहिए। इसके बाद राठौड़ एक बार तो चुप हो गए। लेकिन बाद में उन्होंने कहा कि हमें कमल के निशान पर ध्यान रखना है। यही नहीं संभावित उम्मीदवारों के साथ की गई बंद कमरे में चर्चा के दौरान भी करीब नौ संभावित उम्मीदवार शामिल हुए। जिन्होंने एक बार फिर कहा कि चाहे हमारे में से या फिर किसी भी बूथ अध्यक्ष को टिकट दे दिया जाए। लेकिन वे किसी भी सूरत में बाहरी प्रत्याशी को बर्दाश्त नहीं करेंगे। आज की बैठक के बाद यह तो तय हो गया कि भाजपा के लिए उम्मीदवार का चयन आसान नहीं होगा। लेकिन साथ ही राठौड़ यह इशारा भी करके गए है कि भाजपा नामांकन दाखिल करवाने के लिए अंतिम तारीख 30 सितंबर तक इंतजार नहीं करेगी। 27 या फिर 28 सितंबर को हर हाल में भाजपा प्रत्याशी की घोषणा कर उसका नामांकन भरवाया जाएगा। मंडावा के गायत्री सेवा सदन में हुई बैठक को राठौड़ के अलावा प्रदेश महामंत्री कैलाश मेघवाल, प्रदेश प्रवक्ता ओम सारस्वत, जिलाध्यक्ष पवन मावंडिया, सांसद नरेंद्रकुमार, सूरजगढ़ विधायक सुभाष पूनियां, चुरू जिला प्रमुख हरलाल सहारण, झुंझुनूं उप प्रमुख बनवारीलाल सैनी आदि ने संबोधित किया। बैठक में विश्वंभर पूनियां, जिला महामंत्री विकास शर्मा लोटिया, राजेंद्र भांबू, योगेंद्र मिश्रा, अतुल खीचड़, जिला प्रवक्ता कमलकांत शर्मा, हमीरी की पूर्व सरपंच सरोज झाझडिय़ा सहित अन्य मौजूद थे। वहीं नौ उम्मीदवारों ने बंद कमरे में चर्चा की। उनमें डॉ. राजेश बाबल, बिमला चौधरी, नरेंद्र मोगा, जाकिर झुंझुनूंवाला, गिरधारी खीचड़ प्रधान, संजय जांगिड़, बजरंगसिंह ख्याली, सीताराम शर्मा भूदा का बास, राजेंद्र ठेकेदार शामिल थे। 

दो दिनों तक चलेगा बैठकों का दौर

बैठक में उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि अब चुनावों का समय कम ही है। इसलिए आने वाले दो दिनों में सभी मोर्चा और प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों की बैठक लेकर उन्हें सक्रिय करने के अलावा हर कार्यकर्ता खुद को उम्मीदवार मानते हुए लोगों से संपर्क करें और भाजपा के पक्ष में मतदान की अपील करें।